Breaking News

शिक्षकों का जेल भरो आंदोलन : अधिकार और कर्तव्य का अनोखा टकराव आरक्षक शिष्य ने अधिकार माँग रहे गुरु को किया गिरफ्तार…….


Notice: Undefined index: mode in /home/dakhalchhattisga/public_html/wp-content/plugins/sitespeaker-widget/sitespeaker.php on line 13

पेण्ड्रा/दिनांक 18 अगस्त 2023

आंदोलन में शामिल होने रायपुर जा रहे 81 शिक्षकों को पेण्ड्रा रोड रेल्वे स्टेशन से पुलिस ने गिरफ्तार किया

इस दौरान पुलिस आरक्षक शिष्य ने अपने गुरु को भी गिरफ्तार किया

गिरफ्तारी को शिक्षकों ने लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन और सरकार की दमनकारी नीति बताया

अपनी मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं एलबी संवर्ग शिक्षक

पेण्ड्रा / अपनी मांगों को लेकर जेल भरो आंदोलन में शामिल होने के लिए रायपुर जाने के दौरान जीपीएम जिले के 81 एलबी संवर्ग शिक्षकों को पेण्ड्रा रोड रेल्वे स्टेशन से पुलिस ने गिरफ्तार कर अस्थाई रूप से बनाए गए जेल पुलिस कंट्रोल रूम में रखा और दोपहर के बाद छोड़ा। एलबी शिक्षकों ने गिरफ्तारी को लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन और सरकार की दमनकारी नीति बताया है। बता दें कि सहायक शिक्षक समग्र शिक्षक फेडरेशन के बैनर तले एलबी संवर्ग शिक्षक पूर्व सेवा गणना कर वेतन विसंगति दूर करते हुए क्रमोन्नत वेतनमान और पूर्ण पेंशन की मांग को लेकर 10 अगस्त से अनिश्चित कालीन हड़ताल कर रहे हैं।

गौरतलब है कि वर्ष 1998 में मध्य प्रदेश से शिक्षा कर्मियों की नियमित भर्ती शुरू हुई थी। उसके बाद छत्तीसगढ़ शासन ने 1 जुलाई 2018 को शिक्षा कर्मियों का शिक्षा विभाग में संविलियन कर दिया, लेकिन वर्ष 1998 से 30 जून 2018 तक 20 वर्ष की नौकरी को शून्य घोषित कर दिया। इसके कारण अब इन शिक्षकों की 20 वर्ष की वरिष्ठता खत्म हो गई है। इससे एलबी शिक्षक वेतन विसंगति, क्रमोन्नति, पदोन्नति की समस्या पैदा होने के साथ ही भूपेश बघेल सरकार द्वारा बहाल किए गए पुरानी पेंशन योजना के लाभ से भी इनमें से अधिकतर शिक्षक वंचित हो गए हैं और 30 वर्ष की नौकरी में मिलने वाले पूर्ण पेंशन की समस्या भी पैदा हो गई है क्योंकि इनके 20 वर्ष की नौकरी को शून्य माना जा रहा है।

इसलिए ये शिक्षक 18 अगस्त को जेल भरो आंदोलन में शामिल होने रायपुर जाने के लिए निकले थे लेकिन इन्हें पुलिस ने पेण्ड्रा रोड रेल्वे स्टेशन से गिरफ्तार कर लिया और अस्थाई रूप से बनाए गए जेल पुलिस कंट्रोल रूम में ले जाकर रखा तथा दोपहर के बाद छोड़ा। गिरफ्तार होने वालों में प्रमुख रूप से सत्यनारायण जायसवाल, संजय नामदेव, ओमप्रकाश सोनवानी, अजय चौधरी, मीना रौतेल, वैजयंती पैकरा, किरन रघुवंशी, विद्यावती भास्कर, प्रीति गुप्ता, संजय सोनी, राजेश चौधरी, धर्मेंद्र कैवर्त, भागीरथी कैवर्त, विनय राठौर, जवाहर दरकेश, हितेश लहरे, पीयूष विश्वकर्मा, राजकुमार पटेल, सर्वेश नामदेव, परमेश्वर भास्कर, दीपचंद गुप्ता, बलराम तिवारी, प्रहलाद राठौर, तुलसी राठौर, लक्ष्मीदास मानिकपुरी, सुजीत पटेल, रमेश साहू, रमेश सिंह कंवर, बृज मोहन मिश्रा, राजीव नयन त्रिपाठी, परसराम सिंदराम, रमेश राठौर, प्रदीप पैकरा, भूषण सिंह कंवर, सरोधन सिंह पैकरा, श्रद्धा राय, पिंकी सोनी, नरेंद्र कुमार, विनोद साहू, अनिल बघेल, चंद्र निकेश पैकरा, दुर्गा प्रसाद मरावी, अमित जायसवाल, कामता प्रसाद ओट्टी, राकेश राठौर, लछनिया उद्दे, कोमल तांडिया, अमरनाथ सिंह, बिहारी उरांव, अभिजीत पाठक, इंद्रपाल सिंह, रंजीता वैश्य, गीता दुबे, धरमीन मरकाम, ओम कुमारी पोट्टाम, अनिता कंवर, अर्चना पैकरा, कृष्णा सिंह, मनीषा राठौर, सुशील जोशी, रामनारायण चौधरी, मोहन रजक, जगदीश रैदास, जोहन सिंह पैकरा, चेतन राठौर, लक्ष्मण आयाम, विधान सिंह कंवर, मेल सिंह पैकरा, सूरित राम, रतिराम भानू , आशीष साहू, गौरव तंवर, तेजेश्वर पोट्टाम, तेज सिंह पैकरा, आशा, पैकरा, खेलनवती वाकरे, सुशील नामदेव, विद्या रजक, अनीता ताम्रकार, विकास अग्रहरि, विजय साहू, प्रदीप पैकरा, डाली धुर्वे, प्रतिमा पटेल, दुलेश यादव, रामचंद्र राठौर इत्यादि शामिल थे।

पुलिस आरक्षक शिष्य ने किया गुरु को गिरफ्तार

आंदोलन में शामिल होने रायपुर जा रहे शिक्षकों में से एक शिक्षक संजय नामदेव को भी पेण्ड्रा रोड रेल्वे स्टेशन से उस पुलिस आरक्षक ने गिरफ्तार किया जिसे वे पढ़ाए थे। आश्रम शाला सोनकुण्ड में नामदेव के द्वारा पढ़ाए गए स्वरूप सिंह पैकरा पुलिस आरक्षक हैं। आरक्षक पैकरा ने शासन के निर्देश पर अपन फर्ज निभाते हुए अपने शिक्षक को भी गिरफ्तार किया। अपनी गिरफ्तारी पर शिक्षक नामदेव ने कहा कि उन्हें अपने शिष्य पर गर्व है कि उन्होंने शासनादेश का पालन अपना फर्ज निभाया और वो एलबी शिक्षकों की मांग को लेकर हड़ताल में शामिल होकर अपना फर्ज निभा रहे हैं।

जिलाध्यक्ष सहित अनेक शिक्षकों को रायपुर में गिरफ्तार कर शहर से 25 किमी दूर छोड़ा गया

सहायक शिक्षक समग्र शिक्षक फेडरेशन के जीपीएम जिलाध्यक्ष दिनेश राठौर, कार्यकारी जिलाध्यक्ष पीयूष गुप्ता, अमिताभ चटर्जी, महेंद्र मिश्रा, रंजीत राठौर सहित सैंकड़ों शिक्षक सड़क मार्ग से रात में ही रायपुर चले गए थे जिन्हें रायपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर शहर से 25 किलोमीटर दूर छोड़ दिया जिससे कि शिक्षक जेल भरो आंदोलन के लिए एकत्रित न हो पाएं।


There is no ads to display, Please add some
alternatetext
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The Latest

To Top

You cannot copy content of this page

$(".comment-click-38235").on("click", function(){ $(".com-click-id-38235").show(); $(".disqus-thread-38235").show(); $(".com-but-38235").hide(); });
$(window).load(function() { // The slider being synced must be initialized first $('.post-gallery-bot').flexslider({ animation: "slide", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, itemWidth: 80, itemMargin: 10, asNavFor: '.post-gallery-top' }); $('.post-gallery-top').flexslider({ animation: "fade", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, prevText: "<", nextText: ">", sync: ".post-gallery-bot" }); }); });